स्लो वाई-फाई, कनेक्शन को ऐसे करे ठीक

स्लो वाई-फाई की समस्या  से आप लोग काफी परेशान रहते होंगे , खासतौर पर जब आप घर से काम कर रहे हो  या फिर ऑनलाइन  स्टडी  कर रहे हों। स्लो इंटरनेट से  आपके दिन को खराब करने में कोई कमी नही होती है , न आप अपने ऑफिस का काम ठीक से कर पाते हैं… और  न ही पढ़ाई ठीक से  कर पाते हैं और न ही अपना पंसदीदा शो OTT प्लेटफॉर्म पर देख पाते हैं। लेकिन क्या आपको पता है  स्लो वाई-फाई एक ऐसी समस्या है… जिसे आप आसानी से ठीक कर सकते हैं। स्लो वाई-फाई को नीचे दिए गए कुछ तरीको  को फॉलो करके ठीक  किया जा सकता है। आइए एक नज़र डालते हैं ।

Slow Wi-Fi: How to fix

1. Do you have slow Internet speed?

स्लो इंटरनेट की स्पीड  बढ़ाने के लिए कुछ करने से पहले ये सुनिश्चित कर लें कि क्या आपके इंटरनेट की स्पीड आपके वाई-फाई प्लान की स्पीड के बराबर है या नहीं। अपने इंटरनेट की स्पीड आप speedtest.net या fast.com के जरिए चेक  कर  सकते हैं। यदि यह स्पीड आपके ISP इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर द्वारा दी जाने वाली स्पीड के बराबर है, तो समस्या इंटरनेट में नहीं बल्कि आपके प्लान में है। इस केस में हम आपको फास्ट इंटरनेट स्पीड के प्लान में अपग्रेड करने की सलाह देंगे।

2. Restart Wi-Fi router to fix Wi-Fi issues

कभी-कभी वाई-फाई कनेक्शन की दिक्कत का समाधान रीस्टार्ट करने से हो जाता  है। यदि आप स्लो इंटरनेट से परेशान हो रहे हैं, तो सबसे पहले एक बार अपना वाई-फाई राउटर स्विच ऑफ कर दें, कुछ सेकेंड्स बाद इसे फिर से स्विच आन  करें… उसके बाद अपनी इंटरनेट स्पीड को चेक करे । यदि इससे भी आपकी वाई-फाई की समस्या में  सुधार नही होता , तो एक बार अपने कंप्यूटर, फोन या अन्य डिवाइस को रीस्टार्ट करके देखे । कई बार स्लो इंटरनेट की जड़ आपका डिवाइस  हो सकता है।

Also Read :  Vodafone idea launch unlimited data without any charge

3. Positioning the Wi-Fi router could fix slow Wi-Fi

यदि वाई-फाई राउटर के सही होने के बाद भी आप अपने हाई-स्पीड इंटरनेट का आनंद  नहीं उठा  पा रहे हैं, तो आप अपने राउटर को किसी और  जगह पर रख कर देख सकते  हैं। यूज़र्स को हमेशा सुझाव दिया जाता है कि वह वाई-फाई राउटर को किसी ऊंचे स्थान पर रखें जिससे  राऊटर का कनेक्शन में कोई दिक्कत न  हो । ऐसे में आप राउटर के लिए अच्छी जगह की तलाश करें, जहां से आपका वाई-फाई का signal अच्छी तरह से आ रहा हो। आमतौर पर वाई-फाई signal  दीवारों व अन्य समान से गुज़रने में सक्षम रहता है, लेकिन कई बार ज्यादा मोटी दीवारों व धातु के सामान की वजह से भी इंटरनेट सिग्नल ठीक से नही मिल पाता  हैं। ऐसे में हम आप राउटर की जगह बदकर देख सकते है

4. Adjust the router’s antennas

वाई-फाई राउटर के एंटीना की पॉजिशन भी कई बार सही से नही होता है …. इस कारण आपको  एंटेना को अलग-अलग दिशाओं में पॉजिशन करके देखना  चाहिए। उदाहरण के लिए, कई वाई-फाई राउटर दो या तीन एंटेना के साथ आते हैं। ऐसे में आप वर्टिकल और हॉरिजॉन्टल डायरेक्शन में एंटीना को घुमा  कर देख सकते हैं।

5. Use a strong Wi-Fi security standard

यदि आपके वाई-फाई की सिक्योरिटी मजूबत नहीं होगी, तो कोई भी आपके वाई-फाई का पासवर्ड हैक कर  सकता है। क्या पता आपके स्लो इंटरनेट की वजह आपके पड़ोसी हों… जो बिना आपकी अनुमति के आपका वाई-फाई यूज  कर रहे हैं। अपने वाई-फाई राउटर में WPA2 security protocol का इस्तेमाल जरुर करें। इसे आप अपने राउटर की सेटिंग्स में जाकर बदल सकते हैं।

Also Read :  Best smartphone under 10000 in india (january2021)

6. Using QoS to fix slow Wi-Fi

QoS या Quality of Service का काम ऐप्स के बीच आपके वाई-फाई नेटवर्क पर उपलब्ध बैंडविड्थ को बांटना है। Qos के साथ आप तय कर सकते हैं कि कौन-सी सर्विस आपके वाई-फाई की प्राथमिकता है, जिसके आधार पर आप बैंडविड्थ को बांट सकते हैं। हालांकि, ध्यान रहे QoS की सेटिंग अलग-अलग राउटर के लिए अलग अलग  होती है, जिसका मतलब है कि Netgear router में QoS एक्सेस TP-Link router से अलग होता है। राउटर की QoS सेटिंग्स को जांचने के लिए आप अपने राउटर का IP एड्रेस ब्राउज़र में डालें और सेटिंग्स यूज करने  के लिए QoS टैब को देखें।

7. Update router’s firmware to fix Wi-Fi connection issues

आपके राउटर के लिए सॉफ्टवेयर अपडेट भी बहुत जरूरी है, जो कि इसकी स्टेबिल्टी, परफोर्मेंस और सिक्योरिटी को अपडेटेड  रखता  है। वर्तमान में ज्यादातर राउटर ऑटोमैटिकली खुद अपडेट हो जाते  हैं, लेकिन यदि आप पुराने राउटर का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो आपको मैनुअली इसे  अपडेट और फिर  इंस्टॉल करना पड़ सकता  है। राऊटर के सॉफ्टवेयर को अपडेट करने के लिए अलग-अलग राउटर के अलग-अलग तरीके होते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए आप अपने फोन व डिवाइस में राउटर के लिए वाई-फाई सेटिंग्स में जाएं और राउटर का आईपी एड्रेस डालें।

8. Changing the DNS server

हर ISP एक DNS (डोमेन नेम सिस्टम) का इस्तेमाल करता है, जो मूलरूप से google.com या facebook.com जैसे सर्वरों के आईपी पते का अनुवाद करने में मदद करता है। ज्यादातर आईएसपी द्वारा प्रदान किया डीएनएस सर्वस धीमा व अविश्वसनिय होता है और डीएनएस को बदलना काफी आसानी होता है, जो कि आपको इंटरनेट स्पीड प्रदान करने में मदद करेगा। जो लोग एंड्रॉयड smartphone  का इस्तेमाल कर रहे हैं, वो अपने फोन में वाई-फाई सेटिंग्स में जाकर Private DNS आप्शन  को चुन सकते हैं। बाय डिफॉल्ट ये ज्यादातर एंड्रॉयड फोन में ऑफ होता है।

Also Read :  Infinity Free hosting full review in hindi

9. Use a Wi-Fi analyser

Wi-Fi एनालाइज़र एक  app है जो आपको सबसे अच्छे चैनल का सुझाव देता है। यह आपको वह चैनल चुनने में मदद करता है, जिसमें कम भीड़ हो और साथ ही speed  भी अच्छी  हो। बता दें कि वाई-फाई में दो मुख्य बैंड – 2.4GHz और 5GHz होते हैं। 5GHz बैंड में भीड़ कम होती है, लेकिन इसकी रेंज भी कम होती है, इसलिए ऐप के जरिए एनालाइज़ करते समय इस बात का खास ध्यान रखें की इन बैंड्स को कई चैनलों में बांटा गया है, इसलिए वाई-फाई एनालाइज़र यह पता लगाने में मदद करता है कि कौन सा वाई-फाई नेटवर्क समान चैनल्स पर ब्रॉडकास्ट हो रहे हैं ताकि आप एक वैकल्पिक विकल्प चुन सकें।

10. Reset your device’s network settings

वाई-फाई राउटर को रीसेट करने से समस्या ख़त्म नही होता , तो आप अपने डिवाइस का नेटवर्क सेटिंग को  रीसेट कर सकते हैं। अपने डिवाइस की नेटवर्क सेटिंग्स को रीसेट करके, आप मूल रूप से उन्हें डिफॉल्ट रूप में  सेट करेंगे। इसके बाद से आपको अपने वाई-फाई को सभी डिवाइस में री-कनेक्ट  करना होगा और जांचे कि क्या इससे आपकी समस्या ख़त्म  हुई है। हर डिवाइस के स्टेप्स अलग अलग होते हैं और आपको इंटरनेट इस्तेमाल के लिए दोबारा से वाई-फाई पासवर्ड अपने डिवाइस में डालना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: